ऋषि पराशर मंदिर और पराशर झील का इतिहास और कुछ वैज्ञानिक तथ्य ।

24 August, 2023

पराशर झील हिमाचल प्रदेश के, मंडी जिले से 47 किलोमीटर उत्तर में स्थित है, जिसमें तीन मंजिला शिवालय मंदिर है जो ऋषि पराशर को समर्पित है। झील समुद्र तल से 2730 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।  गहरे नीले पानी के साथ, झील को ऋषि पराशर के लिए पवित्र माना जाता है और माना जाता है कि उन्होंने वहाँ ध्यान लगाया था। उनके तप के प्रभाव से उनकी परिधि में झील का निर्माण होता गया जिस स्थान पर महर्षि बैठे हुए थे वो एक टापू का रूप ले चूका था जो आज भी पराशर झील के मध्य में देखा जा सकता है। हैरानी की बात यह है की यह टापू पूर्णतः उसी रूप में झील के आसपास चक्कर लगता है जिस प्रकार पृथ्वी सूर्य के आसपास चाकर लगाती है।

बर्फ से ढँकी चोटियों से घिरी और ब्यास नदी के तेज बहाव को देखते हुए, द्रंग के माध्यम से झील से संपर्क किया जा सकता है। मंदिर 13वीं शताब्दी में बनाया गया था और मान्यता है कि इसे एक एकल पेड़ से एक बच्चे द्वारा बनाया गया था। झील कितनी गहरी है यह आज तक स्पष्ट नहीं हो पाया है। इस झील का तल आज भी नहीं मिल पाया है विज्ञानुसार पुरे विश्व में सभसे गहरा प्रशांत महासागर है जो 11 किलोमीटर गहरा है। परन्तु जब वैज्ञानिको की एक टीम ने झील के अंदर जा कर गहराई मापी तो यह बढ़ती गयी और उन्हें यह परिक्षण तुरंत रोकना पड़ा। टीम से जुड़े एक वैज्ञानक के अनुसार यह झील संसार की सबसे गहरी झील हो सकती है परन्तु धार्मिक स्थल होने के कारण यहाँ के रहस्यों की अधिक वैज्ञानिक विष्लेषण नहीं किया जाता।


इस झील का वैदिक इतिहास कहता है कि महाभारत के रचियता वेद व्यास के पिता महर्षि पराशर के तप की साक्षी भूमि और उसका अद्भुत सौंदर्य आज भी मौजूद है जो सबको अपनी और आकर्षित करता है। यह झील पांडवों द्वारा बनाई गई थी, जब वे देवता कमरुनाग के साथ महाभारत के बाद अपने रास्ते पर थे (जिसके आधार पर आज यह पूरी घाटी कामरू घाटी के रूप में जानी जाती है) अपने शिक्षक, देवप्रयाग और देवता के अलगाव को खोजने के लिए अलगाव पसंद करते हैं इस स्थान पर इतना अधिक है कि उन्होंने जीवन भर यहाँ रहने का फैसला किया। उनके अनुरोध पर, पांडव भाइयों में से एक ने पहाड़ के शिखर पर अपनी कोहनी और अग्रभाग को धक्का देकर झील का निर्माण किया। और यही कारण है कि स्थानीय लोगों द्वारा अंडाकार के आकार की झील के बाद गहराई से अज्ञात माना जाता है। कई बार तूफान में लगभग 30 मीटर लंबा देवदार का पेड़ गिर जाने के कारण गायब हो जाता था।

झील के समीप एक मंदिर भी है जो की पैगोडा शैली में बना है और जिसका निर्माण एक ऋषिकालीन भक्त ने करवाया, बाद में इसका जीर्णोंद्धार मंडी के राजा बानसेन ने करवाया। कहते हैं की यह मंदिर पूर्णतः लकड़ी का बना है और तो और इसकी कीलें भी लकड़ी से निर्मित हैं। आज लोगों की सभी आस्थाओं से आस्था उन्हें यहाँ खींच लाती है। प्रसाद के रूप में लोग पैसे, चाँदी के सिक्के और सोने को पानी में फेंकते हैं। यह स्थान सर्दियों के महीनों, अर्थात् मार्च के माध्यम से पूरे वर्ष के दौरान आगंतुकों के लिए उपलब्ध है। यह स्थान दिव्य और शांति से भरा है, जिसमें भगवान और संत प्रवर की पुरानी छवियाँ हैं। इस झील की अनोखी बात यह है कि यहाँ एक घास है, जो एक छोर से दूसरे छोर तक जाती है। गर्मियों में यह एक छोर है और सर्दियों में यह दूसरे छोर को छूती है।

मंदिर का पुजारी ब्राह्मण नहीं, बल्कि राजपूत होता है। कहा जाता हैं कि राजा एक स्थानीय पुजारी से नाखुश था इसलिए उसने अपनी शक्तियों को प्रदर्शित करने के लिए एक राजपूत पुजारी को नियुक्त किया।

जगह की सवारी (एक कार द्वारा) बहुत ऊबड़ है, विशेष रूप से पिछले कुछ किलोमीटर (लगभग 14किमी) लेकिन जब आप जगह देखते हैं, तो यह आपको जीत की उपलब्धि की भावना देता है। अब बढ़ी हुई आस्था और आगंतुकों के साथ उचित मूल्य के साथ मूलभूत सुविधाओं के साथ कुछ होटल उपलब्ध हैं।



Temple   धर्म एवं संस्कृति

Rated 0 out of 0 Review(s)

इस आर्टिकल पर अपनी राय अवश्य रखें !




हाल ही के प्रकाशित लेख

हिंदु धर्म में क्या है जनेऊ का महत्व ? यहां जाने पूरी जानकारी लगभग 5 माह पहले धर्म एवं संस्कृति में सम्पादित

एक शोधपूर्ण सच्चाई ब्राजील की। लगभग 6 माह पहले जीवन शैली में सम्पादित

एक पीढ़ी, संसार छोड़ कर जाने वाली है। कौन है वो लोग ? लगभग 6 माह पहले जीवन शैली में सम्पादित

हाथी का सिर और इंसानी शरीर ! दुनियाँ की पहली प्लास्टिक सर्जरी.. लगभग 6 माह पहले धर्म एवं संस्कृति में सम्पादित

1990 के दशक का जीवन लगभग 6 माह पहले जीवन शैली में सम्पादित

देवता कमरुनाग जी और उनकी झील का इतिहास लगभग 6 माह पहले धर्म एवं संस्कृति में सम्पादित

ऋषि पराशर मंदिर और पराशर झील का इतिहास और कुछ वैज्ञानिक तथ्य । लगभग 6 माह पहले धर्म एवं संस्कृति में सम्पादित

शिकारी माता मंदिर का इतिहास और कुछ रोचक तथ्य l लगभग 6 माह पहले धर्म एवं संस्कृति में सम्पादित

हिमाचल के इस स्थान में नहीं मनाया जाता दशहरा उत्सव l जाने आखिर ऐसा क्यों होता है ? लगभग 6 माह पहले धर्म एवं संस्कृति में सम्पादित

भगवती भद्रकाली भलेई माता चम्बा का इतिहास लगभग 6 माह पहले धर्म एवं संस्कृति में सम्पादित
Top Played Radios